विहिप के विराट हिंदू धर्मसभा में साधु संतों ने भरी हुंकार, कहा अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण में देरी हुई तो न सत्ता बचेगी न सरकार




अध्योध्या में राम मंदिर नहीं बना तो देश में एक भी मस्जिद व मजार नहीं बचेगा : जन्मेजयश्री बंशीधर नगर : रामरेखा धाम सिमडेगा के संत उमाकांत प्रपन्नाचार्य जी महाराज उर्फ रामरेखा बाबा ने कहा कि सनातन धर्म से बड़ा कोई धर्म नहीं है। धर्म की रक्षा के लिये अयोध्या में राम मंदिर जरूरी है। भगवान राम देश के करोड़ो हिन्दूओं के आस्था का प्रतीक हैं। अयोध्या में राम मंदिर शीघ्र बने इसके लिये सबको संकल्प लेने एवं एकजुट होने की जरूरत है। वह बुधवार को विहिप व बजरंग दल के संयुक्त तत्वावधान में यहां गोसाईबाग के मैदान में आयोजित विराट हिंदू धर्मसभा में बतौर मुख्य अतिथि के रूप मेंउपस्थित रामभक्तों को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि राम मंदिर निर्माण में हो रही देरी से लोगों में काफी नाराजगी बढ़ती जा रही है। रामरेखा बाबा ने सरकार को चेतावनी देते हुये कहा अब बहुत हो गया कानुन बनाकर या चाहे जैसे भी हो शीघ्र मंदिर का निर्माण कार्य प्रारंभ कराये नहीं तो भारतवर्ष में देश व्यापी आंदोलन होगा, तब न तो सत्ता बचेगी और न ही सरकार। फिर ढूंढने के बाद भी सत्ता में बैठे लोग नहीं मिलेंगे। बाबा ने कहा कि सरकार कानून बनाकर मंदिर का निर्माण करा कर हिन्दूओं को सौंपे। राम मंदिर करोड़ो हिन्दूओं के आस्था से जुड़ा हुआ है। राम ने सभी को सम्मान देने का काम किया है। संत काफी सहनशील होते हैं। धर्म की रक्षा करने वाले का ही धर्म रक्षा करता है। धर्म की रक्षा के लिये हजारों संतो ने अपनी बलिदानी दी है और आज उसी पर कुठाराघात हो रहा है जो बर्दास्त से बाहर है। उन्होंने लोगों से मंदिर निर्माण को लेकर एकजुट होने की अपील की। बजरंग दल झारखंड बिहार के क्षेत्रीय संयोजक जनमेजय जी ने कहा कि विश्व को सभ्यता व संस्कृति का ज्ञान कराने वाले शाश्वत विश्वगुरु भारतवर्ष की पवित्र धरा देवताओं की अवतार भूमि रही है। विभिन्न देवी देवताओं के अवतार यहां निरंतर होते रहे हैं। उसी कड़ी में त्रेता युग में अयोध्या में भगवान विष्णु का श्री राम के रूप में अवतरण हुआ। प्रभु श्रीराम ने अपने सुत्यों से संपूर्ण मानव जाति को मर्यादित रहकर सांसारिक कर्मों को संपादित करने की जो शिक्षा प्रदान की है वह सभी के लिये अनुकरणीय है। वसुधैव कुटुंबकम हमारी विशेषता रही है। किंतु कुछ विधर्मियों ने हमारी विनम्रता को कायरता समझने की भूल करके हमारी आस्था को ठेंस पहुंचाने की कोशिश की। कुछेक जगहों पर कामयाब भी हुये। परंतु सहनशीलता की भी सीमा होती है। जब पानी सर से ऊपर होने लगा तो हमने भी जवाब देना प्रारंभ का दिया। करारा जवाब दिया हमने मानवता के कलंक बाबर के द्वारा अवैध रूप से निर्मित ढांचे का नामोनिशान मिटाकर। अब भी हमने धैर्य का परिचय दिया है, तभी तो न्यायालय के सम्मान में अभी तक उसके परिणाम की प्रतीक्षा करते रहे हैं। किंतु यदि न्यायालय या सरकार की ओर से शीघ्र ही कोई पहल नहीं की गई तो विवश होकर हम सभी हिंदूओं को स्वयं कुछ निर्णय लेना होगा। उन्होंने कहा कि अध्योध्या में राम मंदिर नहीं बना तो आने वाले समय में भारत में एक भी मस्जिद व मजार नहीं बचेगा है। उन्होंने कहा कि बजरंग दल के लोग छह घंटा में बाबरी मस्जिद को ध्वस्त कर सकते हैं तो मंदिर का निर्माण करने में थोड़ा भी देर नहीं होगा। सभा को आरएसएस के राजीव कुमार, बजरंग दल के दीपक, शिवप्रकाश आदि ने संबोधित किया। कार्यक्रम में स्वामी लक्ष्मणानंद जी, स्वामी कृष्ण चंद्रेय, स्वामी शशिधराचार्य जी, हरिद्वार दास जी, दिनेश कश्यप, विद्यासागर, बृजबिहारी पांडेय, डीपी सिंह समेत बड़ी संख्या में लोग मौजूद थे। संचालन कन्हैया लाल व धन्यवाद ज्ञापन विहिप के गढ़वा जिला के कार्यकारी अध्यक्ष राजेश प्रताप देव ने किया।

(पलामू प्रमंडल की ख़बरों के लिए बंशीधर न्यूज़ मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

शेयर करें