एके सिंह डिग्री कॉलेज जपला हो चुका है राजनीति षड्यंत्र का शिकार : अंसारी




मेदिनीनगर : समाज सेवी अख्तर अंसारी, ललन प्रसाद सिंह और विजय सिंह ने प्रेस वार्ता में कहा कि हुसैनाबाद के एके सिंह डिग्री कॉलेज राजनीति षड्यंत्र का शिकार हो चुका है। 2016 में नियुक्त हुए 56 शिक्षक-शिक्षकेत्तर कर्मियों को वेतन नहीं दिया जा रहा है। जिस कारण शिक्षक और शिक्षकेत्तर कर्मचारी भूखमरी के कगार पर हैं। परंतु एनपीयू प्रशासन और कॉलेज प्रशासन ने कमर कस ली है कि जब तक शिक्षक और शिक्षकेत्तर कर्मचारी जिंदा है उन्हें न्याय नहीं मिलेगा। अख्तर अंसारी ने कहा कि चयनित 56 कर्मियों को सितंबर 2017 तक वेतन दिया गया,उसके बाद से वेतन नहीं मिल रहा है। कॉलेज के शैक्षणिक व्यवस्था चरमरा गई है। इसे लेकर जरूरत पड़ने पर हुसैनाबाद के छात्र, अभिभावक सड़क पर उतरने की तैयारी कर रहे हैं। इन कर्मचारियों ने वैद्यता की जांच के लिए एनपीयू प्रशासन ने 2016 में चार सदस्यीय जांच कमेटी बनायी थी,परंतु दो साल के बावजूद भी एनपीयू प्रशासन ने जांच रिपोर्ट को अब तक सार्वजनिक नहीं किया है। उन्होंने कहा कि विधायक शिवपूजन मेहता, एसडीओ और एनपीयू प्रशासन के चक्कर में नियुक्त शिक्षक और शिक्षकेत्तर कर्मचारी पीस रहे हैं। यदि तत्काल शिक्षक और शिक्षकेत्तर कर्मचारियों को न्याय नहीं मिलेगा तो सड़क से लेकर एनपीयू तक आंदोलन छेड़ा जाएगा। उन्होंने कहा कि कॉलेज प्रशासन मुख्यमंत्री जनसंवाद में दिये गए निर्णय को भी नहीं मान रहा है। वहीं सूचना के अधिकार के तहत मांगें गये सूचनाओं का जवाब देने के बजाए सूचनाकर्ता को बोला जाता है कि कॉलेज के सदस्य नहीं नहीं है इस कारण सूचना नहीं दी जाएगी।

(पलामू प्रमंडल की ख़बरों के लिए बंशीधर न्यूज़ मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

शेयर करें