पारा शिक्षकों ने जेल से बाहर आए साथियों का किया स्वागत




लेस्लीगंज/पलामू : लेस्लीगंज के पारा शिक्षको ने जेल से बाहर आए अपने साथियों को फूल माला पहनाकर स्वागत किया। इस अवसर पर पारा शिक्षकों ने एक स्वर में कहा कि झारखंड की रघुवर सरकार बेलगाम और अंहकारी हो गई है। एक तरफ कुछ दिनों के लिए चुने गए जनप्रतिनिधियों का वेतन भत्ता सहित अन्य सुविधाएं बढ़ती जा रही हैं, वहीं दूरदराज ग्रामीण क्षेत्रों में शिक्षा देने वाले पारा शिक्षकों के जायज मांग मानने के बजाय जेल भेज रही है। एक ही विद्यालय में एक ही काम के लिए अलग अलग मानदेय देना सरकार की दोहरी मांसिकता का परिचायक है। सरकार नहीं चाहती है कि ग्रामीण क्षेत्रों में गरीबों के बच्चों पढें और आगे बढें। इसी लिए शिक्षकों को प्रताड़ित कर रही है। इसी अवसर पर पारा शिक्षकों ने लेस्लीगंज बाजार में जुलूस निकाला और सरकार के नीतियों का विरोध कर सरकार विरोधी नारेबाजी की। मालूम हो कि राज्य स्थापना दिवस के अवसर पर लेस्लीगंज के आशीष शुक्ला, जितेन्द्र सिंह, हरेन्द्र मेहता, राजीव शुक्ला को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया था। ये लोग जमानत मिलने के बाद बाहर आए हैं। जुलूस की अगुवाई कामता यादव ने की। जुलूस में सुषमा सोनी, सुमित श्रीवास्तव, संतोष कुमार राम, पंकज पाठक, चंदा कुमारी, अरूण शुक्ला, संतोष मिश्रा, श्वेता कुमारी, साहेब सिंह सहित कई पारा शिक्षक शामिल थे।

(पलामू प्रमंडल की ख़बरों के लिए बंशीधर न्यूज़ मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

शेयर करें