तकनीकी क्रांति भौतिकी और गणित के मेल से हुई : डॉ गौरी शंकर




शोधों की अद्यतन प्रवृतियों पर आधारित दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी शुरू

मेदिनीनगर : मेदिनीनगर : जीएलए कॉलेज के भौतिक विज्ञान विभाग की ओर से आयोजित अनुप्रयुक्त विज्ञान में हो रहे शोधों की अद्यतन प्रवृतियों पर आधारित दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी आज शहर के पंडित दीनदयाल उपाध्याय नगर भवन में शुरू हुआ। इसका उद्घाटन आईआईटी रूढ़की (यूपी) के भौतिक के प्रोफेसर डॉ. गौरी शंकर सिंह ने किया। अध्यक्षता एनपीविवि के कुलपति डॉ. सत्येंद्र नारायण सिंह ने की। गोष्ठी को संबोधित करते हुए डॉ. गोरी शंकर सिंह ने कहा कि आज की तकनीकी क्रांति भौतिकी और गणित के मेल से हुई है। उन्होंने कहा कि चुम्बक, बिजली और प्रकाश में खास संबंध है। जाड़े में उनी कपड़ों से कई बार बिजली कौंधती है। आवेशित कणों को हिलाने से एक तरह की तरंग निकलती है और इस तरंग को फैलने के लिए किसी माध्यम की जरूरत नहीं होती है। उन्होंने कहा कि आसमान से जब बिजली धरती की ओर आती है तो उसकी दिशा एक होती है। मोबाईल, कम्प्यूटर एवं टेलिविजन आदि मैक्सवेथ के सिद्धांत के अनुसार तरंगों की तीव्रता के आधार पर कार्य करते हैं। आज की तकनीकी क्रांति भौतिकी में गणित के मिलान से हुई है और आज की पूरी सभ्यता इन दोनों अनुशासनों से काफी प्रभावित है। डॉ. सिंह ने कहा कि हमारा विज्ञान महाविस्फोट के सिद्धांत के आधार पर पृथ्वी और जीवन का काल तय करता है। ब्रहमांड की काल गणना भारतीय संस्कृति के मिथकों में भी मिल जाती है। उन्होंने विकास के दौर में नयी चीजों पर गहन शोध एवं योग की वैज्ञानिकता पर भी शोध की जरूरत बताई। अध्यक्षीय उद्गार व्यक्त करते हुए कुलपति डॉ. एसएन सिंह ने भारतीय विरासत को अत्यंत समृद्ध बताया। कहा कि विश्वविद्यालय का काम विरासतों पर शोध को बढ़ावा देना है। इसी दृष्टि से विज्ञान संकाय का पहला राष्ट्रीय सेमिनार आयोजित किया गया है। इस उद्घाटन सत्र को जाधवपुर विश्वविद्यालय के डॉ. नितीन चटोपाध्याय एवं एनपीविवि के पुर्व कुलपति डॉ. एम फिरोज अहमद आदि ने संबोधित किया। संचालन डॉ. संजीव कुमार सिंह एवं धन्यवाद ज्ञापन डॉ. महेंद्र राम ने किया। इस दौरान देश के विभिन्न स्थानों से पहुंचे प्रसिद्ध व्याख्याता बड़ी संख्या में उपस्थित थे।

(पलामू प्रमंडल की ख़बरों के लिए बंशीधर न्यूज़ मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

शेयर करें