संस्कार भारती के लोग झारखंड के विभिन्न नदियों का जल लेकर प्रयागराज रवाना




गढ़वा: संस्कार भारती के गंगा मनुहार कार्यक्रम के तहत झारखण्ड की जीवनदायी नदियों के जल लेकर संस्कार भारती की मातृ शक्ति प्रमुख अंजली शाश्वत, पलामू विभाग प्रमुख नीरज श्रीधर स्वर्गीय और सम्पूर्ण प्रयागराज के लिए प्रस्थान किये। इसके पूर्व मां गढ़देवी मन्दिर में पूजा सह प्रयागराज प्रस्थान कार्यक्रम का आयोजन किया गया।
बता दूं कि अखिल भारतीय सांस्कृतिक संगठन संस्कार भारती प्रयागराज संगम के तट पर महाकुम्भ के अवसर पर महा कुम्भ की परिकल्पना की है। इसी उद्देश्य से सम्पूर्ण भारतवर्ष में संस्कार भारती ने सतत प्रवाहित होने वाली मुख्य नदियों से जल संचय कर उस जल-कलश को प्रयागराज कुम्भ पहुंचाने का संकल्प लिया है। इसका प्रमुख उद्देश्य भारतवर्ष के सभी प्रमुख नदियों के जल को माँ गंगा में मिला कर एक सांस्कृतिक एकता का परिचय देना और नदियों की स्वच्छता के प्रति जन सामान्य को जागरूक करना भी है। इस पूरे कार्यक्रम को “गंगा का मनुहार ” नाम दिया गया है।
झारखण्ड प्रान्त से भैरवी नदी , दामोदर नदी (शक्तिपीठ रजरप्पा से ) और स्वर्णरेखा का जल इसके उद्गम रानीचुआ से कलश में एकत्र कर रांची स्थित तपोवन मंदिर में एक सांस्कृतिक कार्यक्रम करने के पश्चात तीनो जल कलश गढ़वा जिला इकाई की मातृशक्ति प्रमुख अंजलि शाश्वत को प्रदान कर दिया गया। वह झारखंड प्रांत का प्रतिनिधित्व करते हुए इन जल कलशों को प्रयाग लेकर जाएँगी। कार्यक्रम में संस्कार भारती के अध्यक्ष रामविलास प्रसाद, प्रान्त साहित्य प्रमुख डॉ नथुनी पांडेय, श्यामनारायण पांडेय, सुभाष प्रसाद केशरी, द्वारिकानाथ पांडेय, डॉ कुलदेव चौधरी, बिनोद पाठक, शम्भूनाथ द्विवेदी आदि उपस्थित थे।

 

(पलामू प्रमंडल की ख़बरों के लिए बंशीधर न्यूज़ मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

शेयर करें