रमना में निरोग्यम अस्पताल संचालक पति पत्नी पर हुआ एफआईआर, दोनों गिरफ्तार


श्री बंशीधर नगर : रमना के निरोग्यम अस्पताल में प्रसव के दौरान जच्चा-बच्चा की हुई मौत मामले में रमना थाने में अस्पताल संचालक एसएस प्रसाद और उनकी पत्नी मीरा देवी पर एफआईआर हो गया। पुलिस ने अस्पताल संचालक दोनों को गिरफ्तार कर न्यायिक हिरासत में भेज दिया है।
सीएस एनके रजक के आदेश के 24 घंटे बाद भी अस्पताल संचालक पर एफआईआर नहीं होने की खबर बंशीधर न्यूज में प्रकाशित होने के बाद एक्शन में आए सीएस डॉ एनके रजक के सख्त आदेश पर कार्रवाई हुई है।
यहां बता दूं कि गत मंगलवार को निरोग्यम अस्पताल में प्रसव के दौरान जच्चा बच्चा की मौत होने एवं मौत के मामले में पुलिस एवं स्वास्थ्य विभाग के द्वारा कोई कार्रवाई नहीं किये जाने की खबर बंशीधर न्यूज एप्प में लगातार प्रकाशित की गई थी। जिसके बाद एक्शन में आये सीएस डॉ एनके रजक ने डीएस डॉ सुचित्रा कुमारी को एफआईआर करने की हिदायत दी। इसके बाद देर रात तक थाने में बैठकर डीएस ने निरोग्यम अस्पताल के संचालक पर एफआईआर दर्ज कराई।

क्या है डीएस के आवेदन में
डा सुचित्रा कुमारी एवं सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र रमना के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डा अरूण कुमार ने संयुक्त रूप से गुरुवार की शाम में रमना थाना में आवेदन देकर निरोग्यम अस्पताल के संचालक श्यामसुंदर प्रसाद एवं उनकी पत्नी मीरा प्रसाद के विरूद्ध अवैध रूप से नर्सिंग होम चलाने एवं मरीजों के जान के साथ खिलवाड़ करने की शिकायत की है। आवेदन में उल्लेख है कि रमना थाना क्षेत्र के बहियार कला गांव निवासी मसीर अंसारी ने लिखित शिकायत की है कि उनकी पत्नी जमीला बीबी की निरोग्यम अस्पताल में प्रसव के दौरान संचालक की लापरवाही के कारण जच्चा बच्चा की मौत हो गई है। साथ ही संचालक के द्वारा 15 हजार रूपये भी लिया गया है। शिकायत के आलोक में उक्त अस्पताल की जांच की गई तो बिना निबंधन के नर्सिंग होम एवं बिना लाईसेंस के दवा दुकान चलाये जाने का मामला सामने आया। जांच के दौरान यह भी पाया गया कि श्यामसुंदर प्रसाद एवं उनकी पत्नी मीरा प्रसाद के पास ऐलोपैथिक इलाज करने का कोई भी डिग्री नहीं है। उसके बाद भी अवैध रूप से मरीजों का ऐलोपैथिक इलाज किया जाता है एवं मरीजों के जीवन के साथ खिलवाड़ किया जाता है। डीएस ने निरोग्यम अस्पताल के संचालक श्यामसुंदर प्रसाद एवं उनकी पत्नी मीरा प्रसाद के विरूद्ध अवैध रूप से नर्सिंग होम चलाने एवं मरीजों के जान के साथ खिलवाड़ करने की प्राथमिकी दर्ज कराते हुये कार्रवाई करने का आग्रह किया है।

क्या था मामला
रमना थाना क्षेत्र के बहियार कला गांव निवासी मसीर अंसारी की पत्नी जमीला बीबी की गत् मंगलवार को निरोग्यम अस्पताल में प्रसव के दौरान जच्चा बच्चा की मौत हो गई थी। मौत होने के बाद परिजनों के द्वारा हंगामा करने की
सूचना मिलने पर पहुंची पुलिस ने संचालक के विरूद्ध कार्रवाई करने के बजाय मामले को दबा दिया तथा परिजनों एवं अस्पताल प्रबंधक के बीच सुलह समझौता करा दिया था। बाद में परिजनों ने अनुमंडलीय अस्पताल की उपाधीक्षक डा सुचित्रा कुमारी को आवेदन देकर पूरे मामले की जांच कर अस्पताल प्रबंधक के विरूद्ध कार्रवाई करने की मांग की थी। किन्तु डीएस के द्वारा भी मामले में कोई तत्परता नहीं दिखाई गई और मामले को ठंढे बस्ते में डाल दिया गया। बाद में मामला गंभीर होता देख सीएस डा एनके रजक ने डीएस को अविलंब मामले की जांच कर दोषी के विरूद्ध कार्रवाई करने का निर्देश दिया गया था।

(पलामू प्रमंडल की ख़बरों के लिए बंशीधर न्यूज़ मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

शेयर करें