दवा व्यवसायियों की समस्याओं का कराएगें निराकरण : त्रिपाठी


मेदिनीनगर : केमिस्ट एंड ड्रगिस्ट फेडरेशन ने केचकी में वनभोज सह चिंतन शिविर का आयोजन किया। इस शिविर में मुख्य अतिथि के रूप में पूर्व मंत्री केएन त्रिपाठी उपस्थित थे। दवा व्यवसाय में चुनौतियां एवं मुकाबला विषय पर परिचर्चा भी की गई। दवा व्यवसायियों को संबोधित करते हुए श्री त्रिपाठी ने कहा कि जिस जगह पर फेडरेशन ने आयोजन किया है यहां पर मंडल डैम का पहला बराज बनेगा। जहां से पलामू की भूमि की सिंचाई होगी। उन्होंने कहा कि पलामू जिले के एक-एक इंच भूमि सिंचित हो इसके लिए वे प्लान तैयार किया है। उन्होंने कहा कि दवा व्यवसायियों की सबसे बड़ी समस्या फार्मासिस्ट और ऑन लाईन दवा ब्रिकी है। उन्होंने कहा कि सरकार को चाहिए कि जो दवा के क्षेत्र में पांच सालों से कारोबार कर रहे हैं,उन्हें अनुभव के आधार पर फार्मास्टि की मान्यता दी जाए अन्यथा छह माह का कोई कोर्स कराकर किया जाए। राज्य सरकार ऑन लाईन दवा बिक्री पर प्रतिबंध लगाये। दोनों सवालों को लेकर वे सरकार से बात करेंगे और जरूरत पड़ा तो दवा व्यवसायियों के संघर्ष में भी वे साथ रहेंगे। उन्होंने कहा टाउन लीज गुलामी का प्रतीक है। सरकार को फ्री होल्ड कर लोगों को मालिकाना हक देना चाहिए। दवा व्यवसायियों ने छह सूत्री मांगों को लेकर अपने संघर्ष को तेज करने का भी निर्णय लिया। इस मौके पर संरक्षक मृत्युंजय शर्मा, संयोजक अमिताभ मिश्रा, अध्यक्ष रमेश शुक्ला, संजय कुमार, सतीश तिवारी, राजेश कुमार, सुरेश कुमार अग्रवाल, विपुल भूषण, अभय कुमार, रामाकांत पांडेय समेत काफी संखय में दवा व्यवसायी उपस्थित थे।

(पलामू प्रमंडल की ख़बरों के लिए बंशीधर न्यूज़ मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

शेयर करें