सोन नदी पर पुल नही तो वोट नही



  

कांडी से वरूण शर्मा

कांडी : सोन नदी में कांडी प्रखंड के श्री नगर व रोहतास बिहार के पंडूका गांव के बीच उच्च स्तरीय सड़क पुल का निर्माण कार्य तत्काल शुरु किए जाने की मांग को लेकर ग्रामीणों ने उग्र तेवर अपना लिया है। उन्होंने ‘पुल नहीं तो वोट नहीं’ की सीधी कार्रवाई‎ का मन बना लिया है। कहा कि किसी भी हाल में फरवरी 2019 की आखिरी तारीख तक पीएम, सीएम या किसी सक्षम व्यक्ति‎ द्वारा पुल निर्माण का शिलान्यास नहीं किया गया तो वे सीधी कार्रवाई‎ के लिए स्वतंत्र होंगे। तब वे किसी को वोट नहीं करेंगे। दर्जनों गावों में एक साथ वोट का बहिष्कार किया जाएगा। इसमें किसी लेकिन, वेकिन व सुलह समझौता तथा आश्वासन दिलासा की कोई गुंजाईश नहीं है। सोन नदी पर पुल निर्माण की इस बहुप्रतीक्षित योजना को एक बार फिर लटकाए जाने की आशंका को लेकर ग्रामीणों ने कांडी पंचायत भवन में मुखिया विनोद प्रसाद की अध्यक्ष‎ता में एक बैठक की। इस मौके पर सबसे पहले सोन पुल का सपना देखने व इसके लिए संघर्ष‎ का शंखनाद करनेवाले स्वर्गीय बचरू साव को स्मरण कर सबों ने उन्हें भावभीनी श्रद्धांजलि दी। कहा कि अकेले साइकिल से पर्चा छपवाकर इस पार व उस पार गांव गांव लोगों में सोन पुल निर्माण के लिए जागरुकता अभियान चलाने के उनके जीवट को लोगों ने सलाम किया। कहा कि दोनों तरफ के लोगों के बीच सदियों से बहुत गहरा सामाजिक, सांस्कृतिक व आर्थिक संबंध रहा है। पुल निर्माण से यह और मजबूत होगा। साथ ही यूपी, एमपी, छत्तीसगढ़ व झारखंड का बिहार से यह बिल्कुल शॉर्ट रूट होगा। सभाध्यक्ष विनोद प्रसाद, अशोक प्रसाद, राममणि तिवारी, गोरख मेहता, दामोदर प्रसाद मेहता, सुनील कुमार, राम प्यारे मेहता आदि ने कहा कि यदि वे सभी इस मामले की ओर से आंखें बंद कर सो गए तो इतिहास उन्हें कभी माफ नहीं करेगा। कहा कि उन्हें केवल आश्वासन के सेतू पर सवार करके वर्षों से टहलाया जा रहा है। अब वे पुल की जगह भूल करने की गलती नहीं करेंगे। आगामी आम चुनाव के पहले पुल निर्माण शुरु नहीं हुआ तो वे 2024 का इंतजार नहीं कर सकते। लिहाजा उन्होंने पुल नहीं तो वोट नहीं का हाथ उठाकर व नारा लगाकर संकल्प लिया। इसके लिए कांडी प्रखंड क्षेत्र के सभी 16 पंचायत, सीमावर्ती भवनाथ पुर प्रखंड व अन्य गावों के लिए एक 11 सदस्यीय संपर्क समिति का गठन किया गया। इनमें अशोक प्रसाद, दामोदर प्रसाद मेहता, गोरख मेहता, विनोद प्रसाद, सुनील कुमार, ईश्वरी मेहता, जगदीश यादव, राममणि तिवारी, लक्ष्मण राम, शहाबुद्दीन खलीफा व मोती पाल का नाम शामिल है। इस मामले को लेकर 20 जनवरी रविवार को कांडी में एक आम बैठक आहूत की गई है। जिसमें सभी पंचायत प्रतिनिधि‎यों सहित अधिक से अधिक लोगों से भाग लेने की अपील की गई है। इस मौके पर गोपीचंद प्रसाद, शिवशंकर साव, उमेश राम, बिंदेश्वर मेहता, कृष्णा मेहता, रवि कुमार मेहता, राजेश्वर यादव, राधेश्याम मेहता, सुधीर मेहता, राजगृही, दीपक, विनोद मेहता, नुरूलहक खलीफा सहित कई लोग उपस्थित‎ थे।

 

(पलामू प्रमंडल की ख़बरों के लिए बंशीधर न्यूज़ मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

शेयर करें