सरकारी नियमों के बजाय शिक्षकों की मर्जी से संचालित हो रहा है उत्क्रमित प्राथमिक विद्यालय नयाखाड़


श्री बंशीधर नगर : प्रखंड अंतर्गत उत्क्रमित प्राथमिक विद्यालय नयाखाड़ सरकारी नियमों के बजाय शिक्षकों की मर्जी से संचालित हो रहा है। शनिवार को विद्यालय पौने ग्यारह बजे तक नही खुला था। विद्यालय में ताला लटका हुआ था। सबसे मजे की बात है कि विद्यालय में बच्चों की उपस्थिति पंजी में 27 जनवरी के बाद से किसी भी छात्र-छात्रा का उपस्थिति भी नहीं बनाया गया है। जबकि विद्यालय में 70 बच्चे नामांकित हैं। इसका खुलासा भाजपा नेता विकास कुमार स्वदेशी के जांच से हुआ है। इस संबंध में भाजपा नेता विकास कुमार स्वदेशी ने बतलाया कि उत्क्रमित प्राथमिक विद्यालय नयाखाड़ कई दिनों से बंद रहने एवं शिक्षकों की मर्जी से संचालित होने की खबर मिल रही थी। शनिवार को वे विद्यालय का हाल जानने के लिये विद्यालय पहुंचे थे। विद्यालय पहुंचने पर पाया कि पौने ग्यारह बजे तक विद्यालय बंद है विद्यालय में ताला लटका हुआ है। मात्र पांच बच्चे विद्यालय के बाहर में खेल रहे थे। करीब दस बजकर पचास मिनट पर विद्यालय में कार्यरत पारा शिक्षक बसंत राम पहुंचते है। उन्होंने कहा कि वे अकेले हैं इसलिये विद्यालय आने में देर हो जाती है। विद्यालय में बच्चों की उपस्थिति नहीं के बराबर होने पर बसंत राम ने बतलाया कि विद्यालय में दो शिक्षक हैं। शिक्षिका कंचन कुमारी डीएलएड की परीक्षा देने गई हैं, वे छुट्टी पर हैं। उन्होंने बतलाया कि विद्यालय में 27 जनवरी के बाद से अबतक बच्चों की उपस्थिति नहीं बनाई गई थी। बसंत राम ने बतलाया कि कंचन कुमारी विद्यालय के प्रधानाध्यापक हैं उन्होंने मुझे कहा है कि मेरे आने तक कागज पर उपस्थिति बनायें। इसलिये वे रजिस्टर पर बच्चों की हाजिरी नहीं बना रहे हैं। उधर इस संबंध में पूछने पर प्रखंड शिक्षा प्रसार पदाधिकारी महेंद्र राम कहा कि विद्यालय बंद रहा एवं बच्चों की हाजिरी नहीं बनाया जाना काफी गंभीर मामला है। उन्होंने कहा कि इस मामले में दोनों शिक्षकों से स्पष्टीकरण पूछा जायेगा। संतोषजनक जबाब नहीं मिलने दोषी के विरूद्ध कार्रवाई की जायेगी।

 

(पलामू प्रमंडल की ख़बरों के लिए बंशीधर न्यूज़ मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

शेयर करें