निषेधाज्ञा उल्लंघन के मामले में  कोर्ट में हाजिर हुए बाबूलाल, मिली बेल




मेदिनीनगर : निषेधाज्ञा उल्लंघन के एक मामले में झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री सह झाविमो सुप्रीमो बाबूलाल मरांडी आज पलामू जिला व्यवहार न्यायालय के प्रथम श्रेणी न्यायिक दंडाधिकारी दीपक कुमार की अदालत में हाजिर हुए और जमानत की अर्जी दी। जिसके बाद न्यायालय ने दस हजार रुपये के दो मुचलके पर जमानत दी। जानकारी के अनुसार बाबूलाल मरांडी के खिलाफ 29 अप्रेल 2011 में तत्कालीन अपर समाहर्ता (विधि व्यवस्था) मुकुल पांडेय ने शहर थाना में धारा 144 का उल्लंघन करने के आरोप में प्राथमिकी दर्ज करायी थी। यह प्राथमिकी शहर थाना में कांड संख्या 180/2011 के तहत दर्ज की गई थी। इसी के आरोप में धारा 188 के अंतर्गत कार्रवाई करने को लेकर मुकुल पांडेय ने तत्कालीन शहर थाना प्रभारी को बाबूलाल मरांडी के खिलाफ आवेदन दिया था। उक्त मामले में 06 फरवरी 2017 को बाबूलाल मरांडी के खिलाफ गैर जमानती वारंट न्यायालय द्वारा निर्गत किया गया था। 31 अगस्त 2017 को कुर्की की कार्रवाई का आदेश न्यायालय ने दिया था। बता दें कि उपरोक्त मामले में 25 मार्च 2014 को धारा 188 के तहत बाबूलाल मरांडी के खिलाफ संज्ञान लिया गया था। आज अदालत में आत्मसमर्पण करने के बाद श्री मरांडी को आरोपो से अवगत कराया गया। हालांकि श्री मरांडी ने सभी आरोपो से इंकार किया। गौरतलब हो कि इस मामले में अब गवाही शुरू होगी। अदालत में आत्मसमर्पण करने आये पूर्व मुख्यमंत्री श्री मरांडी के साथ पार्टी के युवा नेता दिलीप सिंह नामधारी, जेवीएम के जिला अध्यक्ष मुरारी पांडेय, अधिवक्ता अनिल पांडेय, मुखिया विनय त्रिपाठी हुसैनाबाद के रविंद्र कुमार सिंह, बबलू तिवारी, प्रभात भुइयां सहित काफी संख्या में समर्थक और कार्यकर्ता पहुंचे थे।

 

(पलामू प्रमंडल की ख़बरों के लिए बंशीधर न्यूज़ मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

शेयर करें