भगवान की शरणागति के बिना मुक्ति संभव नहीं : श्री धराचार्य




श्री बंशीधर नगर : प्रखंड के चितविश्राम गांव में साप्ताहिक श्रीमदभागवत कथा ज्ञान महोत्सव दूसरे दिन अयोध्या से पधारे श्रीधराचार्य महाराज ने कहा कि भगवान की शरणागति के बिना मुक्ति संभव नहीं है। उन्होंने कहा कि शुकदेव जी ने राजा परीक्षित को भगवान का साक्षात दर्शन कराया। उन्होंने जगत को ही भगवान का स्वरूप बताया। शुकदेव जी ने बताया कि करने वाला भी वही है और कराने वाला भी वही है, ईश्वर एक है। उन्होंने कहा कि भगवान जिस दिन इस धरा धाम को त्याग कर गए उसी दिन से कलयुग का आगमन हो गया। उन्होंने कहा कि श्रीमद्भागवत पुराण में बहुत ही भयानक कलयुग का वर्णन किया गया है। श्री धराचार्य जी ने कपिल जी के अवतार से संबंधित दिव्य कथा का वर्णन किया। रसधार में स्वामी जी द्वारा कपिल जी के कथा के माध्यम से देवहूति का उपदेश दिया। साक्षी दर्शन का वर्णन करते हुए बताया कि दिव्य गंगा में भक्तों ने सैकड़ों की संख्या में आनंद लिया। कथा के दूसरे दिन काफी संख्या में श्रद्धालुओं ने कथा का रसपान किया।इससे पूर्व प्रदेश के पूर्व मंत्री केएन त्रिपाठी ने श्रीधराचार्य जी शॉल ओढ़ाकर सम्मानित किया।

श्रीमदभागवत ज्ञान यज्ञ महोत्सव का लाइव प्रसारण 232 देशों में
आयोजन समिति के प्रमुख कन्हैया चौबे ने बताया कि पावन श्री बंशीधर धाम और यहां चित्तविश्राम में आयोजित श्रीमदभागवत ज्ञान यज्ञ महोत्सव का विश्व के 232 देशों में साधना ग्रुप के ईश्वर टीवी पर लाइव प्रसारण चल रहा है। बकौल चौबे वर्ष 2013 में उन्होंने श्री बंशीधर धाम का लाइव प्रसारण कराने का यह सपना अपने मन में संजोया था, जो आज भगवान श्री बंशीधर जी की कृपा से पूरा हो रहा है।

 

(पलामू प्रमंडल की ख़बरों के लिए बंशीधर न्यूज़ मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

शेयर करें