पिछले चुनाव में प्रयोग हुये वाहनों का अब तक नहीं हुआ भुगतान




गढ़वा: लोकसभा चुनाव की बिगुल बजते ही प्रशासनिक पदाधिकारी रेस हो गए हैं। चुनाव में उपयोग की जाने वाले सभी सामग्री की व्यवस्था करना शुरू कर दिए हैं। सभी विभाग के पदाधिकारियों को अलग-अलग जबाबदेही दी गई है। लेकिन इसमें एक विभाग की कहानी कुछ अलग ही है। वह विभाग है परिवहन। जहां चुनाव में सबसे ज्यादा आवश्यक्ता इसी विभाग को पड़ती है क्योंकि पुलिस पदाधिकारी सहित मतदान कर्मियों को मतदान केंद्र तक पहुंचाना एवं चुनाव के बाद वापस लाना पड़ता है। विडंबना यह है कि 2014 लोकसभा चुनाव, 2018 नगर परिषद चुनाव एवं वंशीधर महोत्सव में जिन गाड़ियों का प्रयोग किया गया था उसके मालिक को अभी तक पैसा नहीं मिला है। गाड़ी मालिक पिछले चुनाव के बाद परिवहन विभाग का चक्कर लगाते-लगाते थक गए लेकिन पैसे का भुगतान नहीं हुआ। 2019 लोकसभा चुनाव की बिगुल बजते ही पुन: गाड़ी के लिए गाड़ी मालिक को बुलाकर गाड़ी देने के लिए दबाव बनाया जा रहा है। जिससे गाड़ी मालिकों के पास यक्ष प्रश्न बना हुआ है। गाड़ी देंं या नहीं। गाड़ी देते हैं तो पैसा नहीं मिलता है। नहीं देते हैं तो प्रशासन दबाव बनाता है। सभी गाड़ी मालिक को परिवहन कार्यालय में बुलाकर गाड़ी देने का दबाव बनाया जा रहा है। लेकिन भुगतान के लिए कोई आश्वासन तक नहीं दे रहा है। गाड़ी मालिकों द्वारा आर-पार की लड़ाई लड़ने की तैयारी चल रही है। गाड़ी मालिकों का कहना है कि जब तक पुराना भुुगतान नहीं हो जाता है, तब तक हमलोग गाड़ी नहीं देंगे। इस संबंध में परिवहन पदाधिकारी भागीरथी प्रसाद ने बताया कि इस मामले की जानकारी नहीं है। यदि ऐसा मामला है तो गाड़ी मालिक आवश्यक कागजात लेकर परिवहन कार्यलय में आयें। उनकी भुगतान की जाएगी।

 

(पलामू प्रमंडल की ख़बरों के लिए बंशीधर न्यूज़ मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

शेयर करें