पलास के फूल से अबीर-गुलाल बनाकर चर्चा में आये ऋद्धि-सिद्धि लाह उत्पादक समिति के संस्थापक गिरफ्तार




मेदिनीनगर : कुंदरी लाह बगान में लाह उत्पादन एवं पलास के फुलों से प्राकृतिक अबीर-गुलाल बनाकर चर्चा में आये ऋद्धि-सिद्धि लाह उत्पादक सहयोग समिति के संस्थापक सचिव कमलेश कुमार सिंह को आज लेस्लीगंज थाना की पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। कमलेश सिंह के खिलाफ वन विभाग के कार्यां में बाधा डालने एवं वनकर्मियों को बंधक बनाने का आरोप है। यह मामला वन विभाग द्वारा वर्ष 2018 में दर्ज कराया गया है। इस मामले में रेंजर जितेंद्र हाजरा की अनुसंशा पर वनरक्षी मोहाफिज अंसारी द्वारा 07 नामजद एवं 45 से 50 अज्ञात लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करायी गई थी। नामजद अभियुक्तों में कमलेश कुमार सिंह के अलावे लाह बगान कुंदरी के संयुक्त वन प्रमंडल समिति के अध्यक्ष विनोद कुमार, ब्रजेश कुमार मेहता, ऋद्धि-सिद्धि के सदस्य पवन कुमार मेहता, ईश्वरी राम, रविंद्र साव एवं आजसू नेता रूद्र शुक्ला के नाम शामिल हैं। इस गिरफ्तारी की पुष्टी लेस्लीगंज के थाना प्रभारी विरेन मिंज ने की है। इधर संयुक्त वन प्रमंडल समिति कुंदरी लाह बगान के अध्यक्ष विनोद कुमार का कहना है कि दो वर्षों से दर्जनों मजदूरों का मजदूरी बकाया है। विभाग द्वारा कराये जा रहे घटिया निर्माण कार्यों को लेकर विरोध प्र्रदर्शन किया गया था। 23 अक्टूबर 2018 को आम ग्रामीणों द्वारा पांकी-मेदिनीनगर पथ को जाम किया गया था। उन्होंने कहा कि आम लोगों की आवाज को दबाने के लिए वन विभाग द्वारा मामला दर्ज कराया गया था। विभागीय साजिश के तहत आम लोगों की आवाज बनने वाले लोगों के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है।

 

(पलामू प्रमंडल की ख़बरों के लिए बंशीधर न्यूज़ मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

शेयर करें