भरत जैसा भाई होना जरूरी है : सुरेश शास्त्री



  

गढवा : प्रखंड के लोटो गांव मे योगी सेना के तत्वावधान में चल रहे शतचंडी महायज्ञ के सातवें दिन रोहतास से पधारे सुरेश शास्त्री ने कहा कि भरत जैसा भाई , राम जैसा पुत्र, हनुमान जैसा सेवक, सीता जैसी नारी, हरिश्चन्द्र जैसा राजा, कर्ण जैसा दानी, प्रहलाद जैसा भक्त, गंगा जैसी नदी होना बहुत जरुरी है। क्योंकि भरत जी का प्रेम और नेम अपने भाई के चरणों में समर्पित है। उन्होंने कहा कि भरत के जीवन ही प्रेम मे ओत – प्रोत है। प्रेम मे नेम नही होता परन्तु भरत जी के जीवन में नेम का दृढता पूर्वक पालन राम प्रेम की पुष्टि के लिए किया गया है। इतिहास में कई भरत हुए सबसे प्रथम भरत ऋषभ देव के पुत्र भरत उनके नाम पर ही इस देश का नाम भारत वर्ष पड़ा। दुसरे भरत दुश्यंत के पुत्र हुए सभी भरत अपने चरित मे एक से एक हुए किन्तु दशरथ नंदन भरत तो अद्वितीय है। अयोध्या जैसा समृद्ध राज्य भरत को मिल रहा था। किन्तु राम ने प्रेम के नाते उन्होंने स्वीकार नहीं किया। श्री शास्त्री ने कहा कि भरत अपने भाई का विपत्ति मे बटवारा करना चाहते हैं।लेकिन आज का भाई विपत्ति मे नहीं संपत्ति मे बटवारा करता है। रुपा पान्डेय ने कहा कि राम कथा अमृत के तुल्य है। जो पीने के बाद व्यक्ति सदैव प्रभु के चरणों में समर्पित हो जाता है। संत योगी योगेश्वर ने कहा कि विवाह धर्म है। विवाह संस्कार है। लेकिन आज कल का विवाह व्यपार हो गया है। इसके पूर्व आज के कथा कि शुरुआत भाजपा नेता अलखनाथ पांडेय, जिलाध्यक्ष ओम प्रकाश केशरी एवं मुरलीश्याम सोनी ने कथावाचक को माल्यार्पण कर आशीर्वाद प्राप्त किया। मौके पर अलखनाथ पांडेय ने कहा कि धर्म परेशान हो सकता है किन्तु पराजित नही होता। उन्होंने योगी सेना की जमकर प्रसंशा की। मौके पर मुखिया निवास राम, योगी सेना के प्रदेश अध्यक्ष बिपुल धर दुबे, रोहित मिश्रा, रवींद्र तिवारी, नरेन्द्र तिवारी, हृषिकेश पांडेय, अमित धर दुबे, विपिन, ओम, बालकेश, अतुलधर दुबे, शुभम, संदीप, मुन्ना दुबे, अरुण दुबे, राम जतन विश्वकर्मा, जनेश्वर पाल, मनोज पाल, संदीप पाल, विशाल सिंह, मार्कण्डेय तिवारी, प्रियांशु दुबे, लालचंद विश्वकर्मा, अमल तिवारी, हरिशंकर दुबे, रोहित दुबे, भरदुल राम, चंदन तिवारी, अरविंद धर दुबे, सोनाधर दुबे, विनोद दुबे समेत बड़ी संख्या मे श्रद्धालुओ ने राम कथा श्रवण किया।


 

 

(पलामू प्रमंडल की ख़बरों के लिए बंशीधर न्यूज़ मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

शेयर करें