ग्रामीण क्षेत्रों में बच्चों की शिक्षा भगवान भरोसे, मध्य विद्यालय अतियारी में लटक रहे ताले



  

महेंद्र गुप्ता

रमना : सरकार और प्रशासन के लाख प्रयासों के बावजूद ग्रामीण इलाकों मे सरकारी शिक्षा व्यवस्था मे सुधार नही हो पा रहा है। ग्रामीण क्षेत्रों में बच्चों की शिक्षा भगवान भरोसे है। स्थिति यह है कि ग्रामीण क्षेत्रों में स्थित विद्यालय के कर्मी बेलगाम हो गए हैं। सुदूरवर्ती बुलका पंचायत के आदिम जनजाति बाहुल्य अतियारी गांव मे स्थित एक मात्र मध्य विद्यालय बगैर सूचना के बंद पड़ा हुआ। बंद विद्यालय की सूचना बच्चों को नहीं है न ही सूचना पट पर छुट्टी से संबंधित किसी प्रकार का सूचना भी चिपकाया गया है। विद्यालय परिसर में खेल रहे कुछ बच्चों से स्कूल बंद रहने के बारे में पुछे जाने पर बच्चों ने कहा कि सर अईले नखथीन इहे से स्कूलवो बंद हई…! ग्रामीणों के मुताबिक उक्त विद्यालय का संचालन हमेशा अनियमित रहा है। कभी विद्यालय बंद तो कभी मध्याह्न भोजन योजना बंद रहता है।

विद्यालय का संचालन मे अनियमितता की शिकायत ग्रामीणों के द्वारा हमेशा प्राप्त होता है। जिसके आलोक मे अग्रेतर कार्रवाई के लिए संबंधित विभाग के अधिकारियों को पत्राचार किया गया है।

उर्मीला देवी

मुखिया

पंचायत बुलका

विद्यालय किन कारणों से बंद है यह जांच का विषय है। जांचोप्रांत दोषी के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई की जायेगी।

महेन्द्र राम

बीईईओ रमना


 

 

(पलामू प्रमंडल की ख़बरों के लिए बंशीधर न्यूज़ मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

शेयर करें